दलित उत्‍पीड़न : राजस्‍थान के जालोर में दलित यूवक को पेट्रोल छिड़ककर जिंदा जलाया…

हाथरस कांड के बाद एक और दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है, जिसमें एक बार फिर दलितों (Dalit)पर हो रहें अत्‍याचार उजागर हूए है । राजस्‍थान (Rajasthan)के जालोर में दिन दहाड़े एक दलित यूवक को पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया । यह घटना आदरवाड़ा गांव की बताई जा रही है, इस घटना में पीड़ि‍त 50 फीसदी तक झुलस गया है। बताया जा रहा है कि दलित युवक ने किसी तरह से मिट्टी में लेटकर अपनी अपनी जान बचाई । 

दलित आव़ाज कि एक रिपोर्ट के अनुसार, घटना कि जानकारी रानीवाड़ा पुलिस को दी गई, जिसके बाद मौके पर पहुंची पूलिस ने गंभीर रूप से झूलसे यूवक को रानीवाड़ा के एक सामूदायिक अस्‍पताल में भर्ती कराया । डॉक्‍टरों ने पीडि़त कि हालत को देखते हूए गुजरात रेफर कर दिया, पीडि़त यूवक गुजरात में घानेरा के एक निजी अस्‍पताल में जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष कर रहा है । 

पीडि़त यूवक श्रवण कुमार ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि वह सोमवार शाम को दूध लेकर घर लौट रहा था, तभी रास्‍ते में वह अपने भाई को लेने एक अवैध शराब के ठेके पर पहुंचा । जहां पहले से ही शराब के नशे में धुत जितेन्द्र सिंह, रघुवीर सिंह और शेर सिंह खड़े थे, जिनसे उसकी मामूली कहासुनी हो गई । इस बात से नाराज़ इन लोगों ने बोतल में रखा पेट्रोल उस यूवक पर डाल दिया और आग लगा दी । पीडि़त ने बडी़ ही मूश्किल से जमीन पर लेटकर अपनी जान बचाई तथा वह मौजूद कुछ लोगों ने मिट्टी डालकर उसकी मदद की, जिसे आग बुझ सके । पीडि़त यूवक श्रवण ने यह आरोप भी लगाया हैं कि यह लोग गांव में भी हमेशा दबंगाई करते रहते हैं । 

इस घटना का दलित संगठन विरोध कर रहे हैं । पुलिस महानिरीक्षक नवज्योति गोगोई भी मंगलवार शाम रानीवाड़ा पहुंचे उन्‍होंने पुलिस थाने में आला अधिकारियों की बैठक लेकर घटना की जानकारी ली । 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *