Coronavirus से जंग में फेल हुए इमरान खान, सेना ने किया साइडलाइन, संभाली कमान

कोरोनावायरस (Coronavirus) के इस दौर में जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) देश को एकजुट कर लॉकडाउन (Lockdown) का सफल बनाने में जुटे हैं, वहीं पड़ोसी देश में स्थिति इसके ठीक उलट है। पाकिस्‍तान के वजीर-ए-आजम इमरान खान (Imran Khan) कोरोनावायरस से जंग में देश को बचा पाने में पूरी तरह से विफल रहे हैं। यही वजह है कि अब उन्‍हें तख्‍तापलट का डर सताने लगा है। पाकिस्‍तान की आर्मी ने इमरान खान को साइडलाइन करते हुए वायरस के खिलाफ जंग में कमान संभाल ली है।

इमरान खान के निर्णय को सेना प्रमुख ने पलटा

भारत से करीब छह गुना छोटे मुल्‍क पाकिस्‍तान (Pakistan) में कोरोनवायरस (Coronavirus) के अबतक 12 हजार से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। 250 लोगों की इस वायरस के चलते मौत हो चुकी है। 22 मार्च को इमरान खान (Imran Khan) ने कहा था कि कोरोनावायरस के चलते अन्‍य देश लॉकडाउन कर सकते हैं, लेकिन पाकिस्‍तान में गरीबी को देखते हुए ऐसा कर पाना संभव नहीं है।

इमरान (Imran Khan) के इस निर्णय के अगले ही दिन पाक सेना के प्रवक्‍ता बाबर इफ्तिखार का बयान आया कि हम लॉकडाउन पर विचार कर रहे हैं ताकि लोगों को बचाया जा सके।
इसके बाद पाकिस्‍तान में लॉकडाउन कर दिया गया था। आर्मी मुख्‍यालय में बैठकर ही अब लॉकडाउन (Lockdown) से बचने की रणनीति बनाई जा रही है। पूरे देश में सेना ने कमान संभाल ली है।

FATF और कश्‍मीर मुद्दे पर विफल होने के आरोप

इमरान खान (Imran Khan) इससे पहले कश्‍मीर मुद्दे को अंतरराष्‍ट्रीय मंच पर ठीक से नहीं उठा पाने के कारण भी अपने ही देश में बुरी तरह से घिरे हुए हैं। लोगों का उनपर से विश्‍वास उठता चला जा रहा है। उपर से कमर तोड़ महंगाई को भी रोक पाने में इमरान पूरी तरह से विफल रहे हैं।

फाइनेंशियल एक्‍शन टास्‍क फोर्स (FATF) में इमरान खान (Imran Khan) की विफलता भी उन्‍हें अपने ही देश में साइडलाइन करने की मुख्‍य वजह है। इमरान खान के FATF के प्रतिबंधों को हटवाने के सभी प्रयास अबतक विफल रहे हैं। आतंकवादियों की मदद करने के कारण FATF की ग्रे लिस्‍ट में मौजूदा पाकिस्‍तान विदेशों से धन नहीं जुटा पा रहा है।

इमरान खान (Imran Khan) पिछले तीन प्रयासों में पाकिस्‍तान को ग्रे लिस्‍ट से बाहर निकाल पाने में विफल रहे हैं। FATF ने पिछली मीटिंग के दौरान पाकिस्‍तान को सभी मापदंड़ो का पालन नहीं करने पर ब्‍लैक लिस्‍ट किए जाने की चेतावनी भी दी थी। अप्रैल में FATF की अगली मीटिंग होनी थी,‍ जिसे कोरोना संक्रमण के कारण फिलहाल टाल दिया गया है। मौजूदा हालातों को देखते हुए पाकिस्‍तान का ग्रे लिस्‍ट से बाहर आ पाना संभव नजर नहीं आता। ऐसे में सेना उन्‍हें बली का बकरा बनाकर सत्‍ता से उखाड़ फेंकने की तैयारी कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *